सपनों को स्थगित करना

1902 में जन्में महान अमेरिकी अश्वेत लेखक लैंग्स्टन ह्यूज़ की लगभग लोकगीत बन चुकी कविता हार्लेम (Harlem) पढ़ने के बाद -

सपनों को स्थगित करना
----------------------------
सपनों को स्थगित करना
होता है पुरानी चोट जैसा
ठीक न होने की निराशा में
जिसे जानबूझकर
भूल जाना चाहते हैं
यह सुबह का भूलना
शाम को लौटना होता है
भूलने और याद करने की
कश्मकश में सपने
पेंडुलम बने रहते हैं

सपनों को स्थगित करना
किसी रात भूखे पेट
सोने जैसा होता है
कई बार सिगरेट के
अमल जैसा कुछ
बस पा लेने का मन करता है
लेकिन हर बार दिमाग
चाहत के आवेग को
सुला देता है थपकी देकर
सपनों को स्थगित करना
कई बार जीने की इच्छाओं को
स्थगित करना भी होता है
सपने स्थगित करते करते
हम अपने आप से कितनी दूर
खिसक गए हैं ...नापना मु्श्किल है

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'