न होता यह राष्ट्रवाद

डार्विन अच्छा किया तुमने, 
बता दिया कि 
हम बंदर थे । 
अब कह सकूंगा खुदा से
इंसानों को फिर से 
बंदर कर दे। 
ना देना दोबारा ऐसा दिमाग, 
इसकी बुद्घि को भी
 बंजर कर दे,
ताकि ना पनप सके 
फिर राष्ट्रवाद । 
इस कमजर्फ नें 
धरती को लाल कर दिया,
सिर्फ दो सौ सालों में 
लाशों से पाट दिया,
देखते ही देखते 
इसनें दुनिया को 
कंटीली बाड़ों में बांट दिया । 
जब से यह प्रेत आया 
धरती नें हिटलर देखे, 
मौत के गैस चेंबर देखे, 
दो दो महा युद्ध देखे,
नागासाकी- हिरोशिमा को 
पिघलते देखे,
इंसानों को 
भाप बनते देखे, 
वियतनाम देखे, 
इराक देखे,
फिलस्तीन में 
मासूमों के चीथड़े देखे।  
न होता यह राष्ट्रवाद, 
न बंटती यह धरती,
न गरजती बंदूके 
न जमता कोई 
सियाचीन में 
न जलता कोई 
सहारा की रेत में। 
कर सकता हर कोई 
यात्राएं धरती के
 इस छोर से 
उस छोर तक,
बची रह जाती
 थोड़ी इंसानियत 
प्यास खून की नहीं
 पानी की होती,
न होता यह राष्ट्रवाद तो 
हम भी पंछी जैसे होते

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'