*** भटके राही ***

जिंदगी का भी कमाल है
कुछ का सफर भी बेमिशाल है
निकले थे किसी सफर पर,
पर पोस्टर ब्वाय बन कर रह गए
कुछ स्टेशनों पर चिपक गए
कुछ टैक्सी स्टैंडों पर
जो बचे बचे वे बिजली खम्भों पर
कुछ ऐसे भी हुए जो ट्रेनों में चिपक कर सफर करते रह गए

कुछ अभी अभी चिपके  हैं,
कुछ फीके हो चुके हैं
जैसे घर वालों की उम्मीदें
कुछ हवाओं में फड़फड़ा कर
इशारे कर रहे हैं
जैसे हर आने जाने वाले को बुला रहे हैं
जैसे लोगों से अपने ही
 घर का पता पूछ रहे है
दो चार देख कर ठिठकते हैं
इशारों को समझते हुए
पास पहुंचते हैं
वर्षों पहले सफर पर निकले
अपनों से मिलने को आंखें चमकती हैं
नही होता कोई अपना तो
पनियाई आंखें अगले किसी इश्तहार पर जा टिकती हैं

स्पर्धा यहां भी कम नहीं
गुम होने वालो की तादात बढ़ रही
दिन दूनी रात चौगुनी
जाने कहां जाते हैं ये विस्मृत यात्री
एक के ऊपर एक चढ़ रहे
जैसे आए थे पैसेंजर ट्रेनों में
ये सफर के अंजान राही
कर रहे कुछ इस तरह अपनी मुनादी
कहते हैं यहां कुर्सी की मार है
जल्द हवा, पानी में गलो
नहीं तो कोई फाड़ देगा
या फिर कोई नया पोस्टर ब्वाय
ऊपर चिपक गला घोंट देगा

कुछ रंगीन हैं तो कुछ श्वेत श्याम
कुछ रद्दी पेपर पर हैं तो कुछ कोटेड
जिसकी जैसी क्षमता है
बस चिपक रहे हैं
यहां भी स्टेटस सिंबल है
यह स्टेटस अंजान सफर में भी साथ नहीं छोड़ता

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'