नोयडा : एक आत्मा विहीन शहर

जब मैं पहली बार नोयडा आ रहा था तो मन में अजब तरीके का उत्साह था इस नये शहर से मुलाकात करने के लिए | बार-बार दिमाग में एक खास छवि बन रही थी | शायद वह बन रही छवि मेरे द्वारा देखे गये वाराणसी और इलाहाबाद से बेहतर की कल्पना थी | वाराणसी और इलाहाबाद दोनों संस्कृति संपन्न शहर हैं लेकिन भली-भांति ढ़ाचागत विकास न होने तथा बहुत पुराने होने के कारण काफी हद तक अनियोजित हैं इसीलिए लोग इन्हें पिछड़ा शहर कहते हैं |
एक बार तो मेरी दिमागी कल्पना यथार्थ में बदलते हुए दिखी |चौड़ी, चमचाती सड़कें, ऊंची-ऊंची अट्टालिकाऐं आदि वह सब कुछ दिखा जो कि वर्तमान में किसी भी शहर को स्मार्ट प्रमाणित करने के लिए योग्यता मानी दजाती है | और तो और अब तक जहां मैनें  इलाहाबाद में तीन सालों में तीन  से चार बार मुश्किल से सड़कों की लिपाई पुताई होते देखा था वहीं नोयडा में यह रोज दिखता है | लेकिन मैनें यहां मुश्किल से छ:माह ही गुजारा होगा कि इस शहर की स्मार्टनेस से मेरा परिचय होना शुरू हो गया | 
धीरे-धीरे यह भी पता चला कि यह  शहर आत्मा यानी संस्कृति विहीन है | नोयडा एक ऐसा शहर जिसकी अपनी न तो कोई सांस्कृतिक विरासत है और न ही कोई सभ्यता | यह मात्र धनपशुओं का अड्डा है | यह आधुनिक शहर त्योहारों के मौके पर मरघट नजर आता है | यह हालत देखकर स्मार्ट सिटी के नाम से ही डर लगता है | नोयडा से सटे गांवों की हालत तो धोबी का कुत्ता घर का न घाट का जैसी है | ये न तो गांव रहे और नहीं शहर ही बन पाये | दरवाजे पर बंधी भैंसों की जगह मंहगी गाड़ियों ने ले लिया और गांव की साफ सुथरी गलियों की जगह गंदी, अंधेरी गलियों और बजबजाती नालियों ने ले लिया है | अगर ऐसे ही स्मार्ट सिटी बनती है तो तौबा तौबा |




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'