देश और देशभक्ति के बीच

सामने हुए विभत्स
कत्ल को देखकर
नहीं कर सका कोई प्रतिरोध
चीखना चाहता था
लेकिन आवाज
अटक गई गले में कहीं
क्योंकि देश के नाम पर
की गई थी वो हत्याएं
और देशद्रोह सोचकर ही
कांप गई रूह मेरी


देश और देश भक्ति
पढने में भले हों महज दो शब्द
पर ये विचारों कर देते हैं 

ब्लैक एंड ह्वाइट
देश क्या है

देश में क्या क्या आता है
नहीं समझ पाया आज तक
लेकिन  डर लगता है 
देशद्रोही होने से
जैसे बचपन में लगता था 
अब भी लगता है
घर के पास वाले तलाब से
उससे निकलने वाले भूतों से

बचपन में ही
रोप दिया गया था
देशद्रोह के भय का बीज
जो बन गया है अब बड़ा पेड़ 
इसकी छाया 
छीन लेती है
गलत के खिलाफ 
खड़े होने की शक्ति 

देश भक्ति और देश द्रोह
हत्यारों के लिए
ऐसे ही है
जैसे गुड़ के रस में
घोड़े को रम पिलाना 


देशभक्ति और देशद्रोह के बीच
खिंची है ऐसी अदृश्य रेखा
जो सोख लेती है
मानवता के सारे रंग, सारे रस
सिर्फ छोड़ती है
बंजर और शुष्क जमीन



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'

दांडी : मैं छूना चाहता था सत्याग्रह की पवित्र जमीन

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

बलात्कार : एक सोच