पेंसिल, कलम, गुलाब वाले बच्चे

'क' से कलम नहीं जानता वह 

'प' से पेंसिल मायने

नहीं समझता शायद

गुलाब जैसा वह खुद रहा होगा कभी

शायद जन्म लेने के वक्त 

या कुछ महीनों बाद तक 

पर अब सूखकर कांटे जैसा हो गया है

उसने स्कूल भी नहीं देखा कभी

लेकिन पढ़ रहा है

भूख का अर्थशास्त्र

कल देखा उसे पेंसिल

और गुलाब बेंचते हुए

पिचके पेट, पड़पड़ाए होठ,

सूखी शक्ल लिए

एक-एक रुपए खातिर

गिड़गिड़ाते हुए

कोई पहली दफ़ा नहीं

हर रोज देखा जाता है वह

मेट्रो के नीचे, चौराहों पर

कभी पेन कभी गुलाब

लिए हाथों को

लोगों से रिरियाते

झिड़की खाते हुए

मुझे डर लगता है

पेंसिल, कलम, गुलाब

वाले उन बच्चों से

उनकी पेंसिल की

नुकीली नोक

आत्मा को बींधती है

गुलाब के कांटे निकल

चुभ जाते हैं पोर पोर में

उनसे बचने का

कोई रास्ता नज़र नहीं आता

वे दिखने लगे हैं नीद में भी

सुबकते हुए

मैं रोज़ मनाता हूं

ये खुदा ! सामना न हो

इन पेंसिल कलम गुलाब

वाले बच्चों से

पर न तो खुद सुनता है

और न बच्चे 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'