दो प्रेम कविताएं ...

1

नहीं कहता तुम्हें मैं
गुलाब कली
भोर का तारा
या सांझ की लालिमा
तो कारण नहीं
कि दिल सूना है
या मेरा प्यार है धुंधला
बस केवल यही है :सारे उपमान
पड़ चुके हैं धुंधले
जैसे कपड़े घिस-घिस कर
छोड़ देते हैं रंग


मगर क्या तुम
नहीं पहचान पाओगे
अगर कहूं तुम्हें,
कास के फूल जैसा
या शरद की सुबह में
लहराती छरहरी
बजरे की बाली

सभ्यता के इस दौर में
जुही के फूल को भले ही
समझा जाता हो,
सौंदर्य का पैमाना
पर इससे अधिक
सच्चे- प्यारे प्रतीक हैं
कास के फूल
या शरद की सूनी सांझ
में डोलती बजरे बाली
(कुछ अधूरी लाइनें)


2

तुम्हें याद है,
जब हम मिले थे
आखिरी बार
तुम पलट कर
मुस्कराए थे
और मैनें बड़ी सफाई से
गीली आंखें छिपा ली थी
उसके ठीक पहले
हंसे थे हम दोनों
आखिरी बार एक साथ
वह हंसी उठी थी
नाभि के हिस्से से
और निकल गूंज गई
हमारे साथ हंसी थी सड़कें
और फुटपाथ भी
पर वे हंस रहे थे
हमारी नियति पर
उन्हें भी पता था
कि इन बावरों की हंसी
बस आज भर है
तुम्हें याद है या भूल गए
भूल गए हो तो अच्छा ही है
जरूरी नहीं दोनों उस
हंसीन मौसम के
इंतजार में कर दें
उम्र तमाम
तुम हंसो
मैं रोने का तुम्हारा औसत भी
पूरा करता हूं
(अधूरी लाइनें .)


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'