क्रांतिकारी कलाकार पवेल कूजेंस्की की कूची

पोलैंड के क्रांतिकारी कलाकार पवेल कूजेंस्की (Paweł Kuczyński) अपनी कूची से आधुनिक समाज की विडंबनाओं के यथार्थ को उकेरते हैं। इनके इलस्ट्रेशन सिर पर हथौड़ा मारने के बजाय सूई की नोक की तरह चुभते हैं।


Water conservation


 

 Career ladder




टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'