'प्यारी इरोम' के नाम एक खत

सोचा था कि 9 अगस्त को ही तुमसे यह बात कहेंगे लेकिन बातें बस मन ही मन में उमड़ती घुमड़ती रहीं. जिन्दगी के 16 साल..16 साल बहुत होते हैं यार. गाँवों के हिसाब से देखें पालने में पड़ी बच्ची इतने सालों में चुन्नी सँभालने लायक हो जाती है.पालने में पड़े बच्चे पर यौवन आने लगता है इतने वर्षों में..मैंने तुमको कई बार देखा मैगजींस के कवर पेज पर..दुबली-पतली सी लेकिन गजब की मजबूत..मुझमे तो इतनी ताब ही न थी कि तुम्हारी आँखों में देख पाऊं.
पूरे सोलह साल तुम गाँधी जी के तरीके से अपनी बात कहती रही पर तुम्हारी किसी ने न सुनी. इस देश में गाँधी जी के तरीके का असफल होना कितना कुछ दरका गया था अंदर ही अंदर...ज़िन्दगी के सोलह साल जिस रास्ते पर चले हों वह रास्ता मंजिल तक न पहुँचाए तो कितनी तकलीफ होती होगी..है ना! अपने देश में इतना भी अनसुना रहता है भला कोई. फिर तुमने लड़ाई के रास्ते बदले लेकिन तुम्हारे इस एक निर्णय से क्या क्या कयामत न आन गुजरी कि तुम अपनों में भी पराई हो गई. उन सोलह सालों में जिन जीभों ने चटखारे लिए अनगिनत बार.. तुम्हारे रास्ता बदल लेने भर से वे कसैली हो उठीं. अपनी लड़ाई में किस कदर अकेला कर दिया तुमको कि घर में ही बेघर हो गई.
इरोम अभी कुछ दिन पहले एक वर्कशॉप में हम लोगों को एक टॉपिक मिला कि हमारी ऐसी कौन सी ख्वाहिश है जो लड़की होने की वजह से पूरी नही हुई या हम पुरुष होते तो क्या करते जो महिला होते हुए नही कर सके. उस दिन देर तक सोचती रही. आख़िरकार मुझे लगा कि एक पुरुष के लिए यह गौरव का विषय होगा कि तुम उसकी जीवन संगिनी बनो. अब जबकि तुमने रास्ते बदलने की सोची है,इन रास्तों पर मै तुम्हारे साथ चलना चाहती.
मै चाहती हूँ कि तुम जानो कि तुम्हारे घर से बहुत दूर उत्तर प्रदेश के एक छोटे से ज़िले,जोकि साक्षरता के लिहाज से सबसे पिछड़ा है में अपने कमरे में बैठी एक लड़की के लिए इरोम कितना मायने रखती है.. ऐसे और भी कई दिल होंगे जिनमे तुम्हारा घर होगा.
तुम अपने संघर्षों में विजयी हो.
तुम्हें ऐसा जीवनसाथी मिले जो इन बेस्वाद सोलह सालों को ब्याज सहित तुम्हारी जिंदगी में ला सके.
तुम भी कभी किसी पन्द्रह अगस्त को अपने देश में स्वतंत्र होने का अहसास कर सको.
तुम्हारे लिए मेरी यही शुभकामना है.

साभार : मधूलिका चौधरी

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'