एक आदमी


वर्षों पहले मैने देखा था 
एक ऐसा आदमी 
जो मोटर नहीं बैलगाड़ी से चलता था 
दो-चार मील पैदल ही
नापा करता था
उसके पास न तलवार होती थी
न कोई बंदूक
होती भी क्यों ! 
वह न किसी से लड़ता था 
न ही रखता था खजाने का संदूक 
उसका रंग श्रम की आंच पर तपकर
लोहे जैसा हो गया था 
उसे देखकर गाना गाते थे हम
लोहे जैसा रंग है तेरा, चांदी जैसे बाल
नाक और कान के पोरों पर लटकी 
पसीने की तेजाबी बूदें मोतियों का अहसास कराती थीं |
बदन से उठती स्वेद गंध 
श्रम की महक लगती थी 
..............................
वह आदमी
सूरज के जगने से पहले 
बिना अलार्म के मुर्गे की बांक पर जगता था 
उसके कंधे पर लटकता था 
मछली मारने का जाल
या फावड़ा कुल्हाड़ी 
कई बार देखा जाता था
हंसिया-हथौड़ा भी साथ लटकाए 
शायद वह नहीं जानता रहा होगा 
कार्ल मार्क्स, लेनिन स्टालिन, माओ को 
ना ही उसने सुना होगा कभी 
किसी वोल्सविक क्रांति के बारे में 
पर मुझे वह लगता था सच्चा साम्यवादी 
......................................
उसका अपनों से 
कोई संघर्ष नहीं था 
उसने कभी जमींदार तक से 
बगावत नहीं की,
मछली के ठेकेदारों को बराबर हिस्सा देता 
पता नहीं क्यों ? 
उसका संघर्ष था नदी की धाराओं से
समंदर की लहरों से 
गेंहू और रोटी से 
मैं कई बार उससे पूछना चाहता था
कि उसने कभी बगावत क्यों नहीं की ? 
पर नहीं पूछ पाया .... पता नहीं क्यों
.........................................
शायद मैं जानता था उसे 
मेरे आसपास का ही या कहो 
परिवार से ही, दादा या परदादा था
वह अब भी जिंदा है पर मेरे भीतर कहीं 
वह बेहद जर्जर है, उसकी गाड़ी टूट चुकी है
बैल मर चुके हैं, जमीनें छिन चुकी हैं 
नदी समंदर पर किसी और का कब्जा है 
उसकी कुल्हाडी थोड़ी 
भोथरी हो ग़़ई है फिर भी...
फिर भी मुझे लगता है
वह खड़ा होगा एकदिन 
इसबार बगावत करेगा 
अपने मालिकों से

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

बलात्कार : एक सोच

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'

दांडी : मैं छूना चाहता था सत्याग्रह की पवित्र जमीन