संदेश

May, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

एक आदमी

वर्षों पहले मैने देखा था  एक ऐसा आदमी  जो मोटर नहीं बैलगाड़ी से चलता था  दो-चार मील पैदल ही नापा करता था उसके पास न तलवार होती थी न कोई बंदूक होती भी क्यों !  वह न किसी से लड़ता था  न ही रखता था खजाने का संदूक  उसका रंग श्रम की आंच पर तपकर लोहे जैसा हो गया था  उसे देखकर गाना गाते थे हम लोहे जैसा रंग है तेरा, चांदी जैसे बाल नाक और कान के पोरों पर लटकी  पसीने की तेजाबी बूदें मोतियों का अहसास कराती थीं | बदन से उठती स्वेद गंध  श्रम की महक लगती थी  .............................. वह आदमी सूरज के जगने से पहले  बिना अलार्म के मुर्गे की बांक पर जगता था  उसके कंधे पर लटकता था  मछली मारने का जाल या फावड़ा कुल्हाड़ी  कई बार देखा जाता था हंसिया-हथौड़ा भी साथ लटकाए  शायद वह नहीं जानता रहा होगा  कार्ल मार्क्स, लेनिन स्टालिन, माओ को  ना ही उसने सुना होगा कभी  किसी वोल्सविक क्रांति के बारे में  पर मुझे वह लगता था सच्चा साम्यवादी  ...................................... उसका अपनों से  कोई संघर्ष नहीं था  उसने कभी जमींदार तक से  बगावत नहीं की, मछली के ठेकेदारों को बराबर हिस्सा देता  पता नहीं क्यों ?  उस…