तुम्हें क्या क्या लिखें

जिंदगी का राग लिखें, रंग लिखें 
पतझड़-बसंत लिखें 

या मन की तरंग लिखें
हर रोज सोचते हैं 
तुम्हें क्या क्या लिखें

जमीं का माहताब लिखें 
अपनी आंखों का आब लिखें
या कोई ख्वाब लिखें 
सोचते हैं क्या क्या लिखें 


तेरे कदमों की आहट लिखें 
मुस्कराता देख मिलती राहत लिखें 
या अपनी आखिरी चाहत लिखें
सोचते हैं तुम्हें क्या क्या लिखें 


होठों का गुलाब लिखें
खूबसूरती का शबाब लिखें 
या बस लफ्ज 'लाजबाब' लिखें 
सोचते हैं अब और क्या लिखें 

क्यों ना तुम पर 
कोई किताब लिखें 
दिल की हर बात लिखें 

बस लिखते रहें 
दिन-रात लिखें 
पर सवाल वही
क्या-क्या लिखें 
कहां से शुरू कहां 
अंत करें

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'