महानगर

वहां के लोग रहस्यमय थे
सबके चेहरों पर मुखौटे
परत दर दर परत चेहरे
ऊपर से शांत पर
सबके भीतर 
कुछ  जल रहा था 
हर कोई बस 
चल रहा था
वहां के कुत्तों तक को
समझना मुश्किल था

लोगों की गंभीरता
को देखते हुए कहा
जा सकता था कि 
हर कोई विचारक है
कोई प्लेटो कोई रूसो 
कोई अरस्तू है पर 
सबके सब पुस्तकों के
बाजार में उल्लू खोजते थे

काफी खोजबीन करने पर
पता चला यह जगह
कोई महानगर है
आगे राजधानी बनने की
संभावना पूरी थी
यहां के लोगों की ना उम्मीदी
के बीच बड़ी उम्मीद थी
सड़कों पर लोगों की भीड़ थी
फिर भी वे वीरान थी
इस भीड में अधिकतर चेहरे
मुरझाए हुए गुलाब थे
जबकि वे सुखी होने के
सभी वर्तमान पैमाने 
पूरे करते थे
जल्द ही पता चला वहां
लोग जिंदा नहीं थे बस
इसका नाटक कर रहे थे
एक दूसरे को कुचल आगे
बढ़ने में सुख चैन तलाश रहे थे

संवेदनाएं किनारे पड़ी
कराह रही थीं
रह रह कर अभी भी
अपने होने का अहसास
करा रही थीं
मुझे यह सब देख
महानगर से डर लगने लगा
पता नहीं यह मेरा भ्रम था 
या हकीकत .

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'