कौन था वह

कौन था वह,

जिसने सबसे पहले

धरती की छाती पर टैटू गोदा होगा,

उगाया उन रेखाओं पर 

नफरत की नागफनी,

कितना सींचा होगा लहू से,

फिर बना होगा एक एक कबीला,

ऐसे ऐसे कितने कबीले बने होंगे,

सब अपनी नींव नरमुंडों पर ही खड़ी किए होंगे !

कबीले कब देश हो गए

पता ही नहीं चला,

फिर बनाया सबने एक एक झंडा

लगाया उसमें एक बड़ा सा डंडा |

झंडे का आकार बढ़ता गया

इंसानों के शरीर से कपड़ा उतरता गया,

वह जब भी ठिठुरते हुए कपड़े के लिए चीखता,

एक बड़ा झंडे वाला डपटता

तू देशद्रोही 

तुझे झंडे का सम्मान नहीं आता |

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'