क्यों फाड़ दिया मेरी किताब

मैने चाहा तुम्हे 
जैसे थे तुम,
एकदम सपनो की तरह 
डूबा तो सपनो की तरह
यादों में संजोया 
तो सपनो की तरह 
तुम्हे हकीकत माना 
तो सपनो की ही तरह
पर भूल गया कि
सपने होते ही हैं क्षणिक,
नही था पता 
इसकी सजा मिलेगी

जिंदगी माना मैने
खुली किताब जैसी 
फड़फड़ाते रहे 
हवा में इसके पन्ने
बहुतों ने पढ़ कर 
छोड़ दिया इसे 
एक तुम मिले 
पहले नाम लिखा
लाल स्याही से 
गोंजा इसपर मन भर 
फिर भी मन न भरा 
तो पन्ने फाड़ दिए 
मेरी किताब के 
नहीं संजोना तो 
क्यों फाड़ा पन्नों को
बिखेर दिया 
मेरे सपनों को 
तुम क्या समझोगे 
 मुड़े तुड़े पन्नों का दर्द
सीधा करने पर भी 
नहीं मिटती
उसके जिस्स से सलवटें 
जोड़ने पर भी 
पड़ जाते हैं निशां 
नही समझोगे 
उस टीस को 
जो फटे पन्नो के 
किताब को होती है
                                                                  
     ‪#‎यायावर‬

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'