बिना शीर्षक की कविता (1)

आजादी को लेकर कविता के रूप में मैंने अपनी कुछ भावनाएं व्यक्त की हैं | तो सोचा कि यदि आजादी की कविता है तो शीर्षक में क्यों बांधें...


मै, देखना चाहता हूँ
                    उड़ते  परिंदों की तरह
                                उन्मुक्त आकाश में तुम्हें

मुक्त हो तुम,
            सब बन्धनों से जहां
कर सको आजाद ख्याली से सारे काम
                                 
                           
                           जिसे यह लम्पट समाज
                                                परम्परा का चोंगा पहनाकर
                                                                    हर पल रोकता है |

लगा देना चाहता हूं ताला,
                      हर उस जुबान पर
                                  जो कदम-कदम तुम्हें रोकती है |



मै  देखना चाहता हूं,
                तुम्हें ऐसा जहां बसाते हुए
                                 जैसा तुम गढ़ना चाहती हो
                                          बिना सदमे के,  बे-झिझक, खिलखिलाते हुए |

                    

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'