थोड़ी और देर

इतनी उदासी रहती है 

आजकल कि सुबह भी 
 मुरझाई हुई लगती है
इतना सन्नाटा है 
चारो तरफ जैसे अंतर्मन 
की वीणा टूटी हुई लगती है
छेड़ने पर तारों से बस 
आह सी निकलती है
अब तो शाम भी
 मायूस सी लगती है
किसी अंजान के 
जाने के गम में
 सिसकते हुए 
लगती है


क्यों नहीं रोक लेता 

कोई रात थोड़ी और देर
मुस्कराती सुबह की
 उम्मीदें बनी रह जाती 
थोड़ी और देर
न छेड़ता टूटी वीणा को कोई
 थोड़ी और देर
थोड़ी और देर हो जाती 
शाम होने में
गम से दूर रह जाती
 थोड़ी और देर
कुछ कलियां फूल बन
बिखरने से बच जाती 
थोड़ी और देर
आंसू और ओस का 
एकाकार बना रहता 
                                      थोड़ी और देर







टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'