मांझी : द माउंटेन मैन, निर्देशन की कमियों के पहाड़ को तोड़ते नवाज

फिल्म : मांझी : द माउंटेन मैन

निर्देशक : केतन मेहता

लेखक : केतन मेहता, महेंद्र झाकर, अंजुम राजाबली

कलाकार : नवाजुद्दीन सिद्दीकी, राधिका आप्टे, तिग्मांशु धूलिया, पंकज त्रिपाठी, प्रशांत नारायण, गौरव द्विवेदी, अशरफ उल हक, दीपा साही

माझी द माउंटेन मैन जब से बन रही थी तब से ही इसे देखने की दो कारणों से उत्सुकता थी , पहला दशरथ माझी और दूसरा नवाजुद्दीन सिद्दकी का अभिनय | | नवाज का अभिनय हमेशा से ही आकर्षित करता है |
आम दर्शक की भांति मेरी भी यह इच्छा अचानक ही रिलीज होने से पहले ही पूरी हो गई, पाइरेटेड प्रिंट देखकर | अब इसे आप अपराध भले ही कहें, जो कि है भी लेकिन जब मिल जाए और जेब में थियेटर के लिए पैसे न हों तो दिल नैतिकता को किनारे कर देता है |
अब आते हैं फिल्म पर, इंटरवल के पहले यह इतनी बार फ्लैस बैक में जाती है कि दर्शक बुरी तरह कहानी को समझने में उलझ जाता है |
इसके पहले मैने केतन मेहता की रंगरसिया और मंगल पांडे का मेलोड्रामा भी देखा था |
रंगरसिया थोड़ी ठीक लगी थी लेकिन एक छिछलापन दिखाई दिया था | यह सतहीपन माझी में भी नजर आता है |
फिल्म में निर्देशक बहुत कुछ एक साथ दिखाने की हड़बड़ी में दिखाई पड़ता है | इसमे उसने 70 के दशक की सामाजिक व्यवस्था से जे.पी. आंदोलन और वर्तमान समय की राजनीतिक हालत तक को अपने लपेटे में ले लिया है | इस कारण फिल्म में दशरथ माझी की प्रेम कहानी कहीं पीछे छूटते हुए लगती है |
इंटरवल के बाद नवाजुद्दीन सिद्दकी के दमदार अभिनय के दम पर संभलते हुए दिखती है | गौर किया जाए तो पूरी फिल्म में एक चरित्र का अभिनय है |
नवाज का पहाड़ से बातें करना, दोस्त की तरह उससे लिपटना एक और किरदार का निर्माण खुद ब खुद कर देता है |
अब पहाड़ तो अभिनय कर नही सकता, इसलिए नवाज पहाड़ पर चढ़ कर खुद अभिनय के शिखर पर जा पहुंचते हैं |
निर्देशक फिल्म की शुरूआत से ही भटका हुआ नजर आता है | वह कभी 80 के दशक की आर्ट फिल्म बनाने की कोशिस करते हुए दिखाई पड़ता है और कभी मंगल पांडे जैसी नाटकीयता |
इसलिए पूरी फिल्म नवाज के ही भरोसे रहती है | बाकी राधिका आप्टे जैसी नायिका को हासिए पर डाल दिया जाता है |
इस तरह पूरी फिल्म में नायक नवाज निर्देशक द्वारा खड़े किए गए कमियों के पहाड़ को छेनी हथौड़े लेकर तोड़ते हुए दिखाई पड़ते हैं और आखिर में फतह हासिल करके आभिन
य के शिखर पर जा पहुंचते हैं |

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'