हार नहीं मानूंगा

हर पल ख्वाबों के घरौंदे बनाता हूं,
कोई आके मिटा जाता है,
मैं बेबस आंसू बहाता हूं,
भीगी पलकें लेकर फिर से
एक नया घरौंदा बनाता हूं,
बस यही उम्मीद लिए जिए जाता हूं,
शायद अबकी बार इन्हें हकीकत में बदल पाऊं |
कभी कभी निराशा के घने अंधेरे से
खुद को घिरा पाता हूं,
पर फिर से एक नया
आशा का दीप जलाता हूं,
आशा और निराशा के इस आंख मिचौली में
कुछ पल ठहरता हूं 
और फिर दो पग आगे बढ़ जाता हूं ,
बस कुछ यूं ही अनवरत चलते जाता हूं |
मंजिल किसी क्षितिज के छोरों जैसी लगती है,
दिखती पास, पर दूर खिसकते लगती है,
जिंदगी, हकीकत और मरीचिका की
आंख मिचौनी लगती है |
कभी-कभी बैठ जाता हूं थक हार कर,
लेकिन यह मत समझना
मैं बैठा हूं मंजिल को नामुंकिन मान कर,
मैं खड़ा होऊंगा बार-बार,
चलूंगा सांसों की अंतिम डोर तक
मंजिल तो मिल ही जायेगी
जब चलूंगा क्षितिज के आखिरी छोर तक |
मेरा खुद से वादा है,
अब ख्वाबों के महल रेत नहीं,
चट्टानों के बनाऊंगा,
देखता हूं फिर कौन कहता है, बिगाड़ जाऊंगा,
हर पल एक नया ख्वाब सजाऊंगा,
मैं सफर में रुकूंगा, थकूंगा,
लेकिन हार नहीं मानूंगा,
चलता ही जाऊंगा
चलता ही जाऊंगा ||
यायावर प्रवीण

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'