जिंदगी की राहों पर

 बस चला जा रहा था जिंदगी की राहों पर
अचनक ही एक ठोकर लगी मैं लड़खड़ा गया
तंद्रा टूटी तो पता चला किसी से टकरा गया,
दिलो दिमाग पर वो चेहरा हमेशा के लिए छा गया,
फिर तो यूं लगा जैसे जिंदगी का सफर ठहर गया
अब तो लगता है जैसे हमेशा के लिए रूठ सहर है गया
उसे जाते हुए दूर तलक देखता रहा, खड़े-खड़े घंटों सोचता रहा,
शायद फिर किसी मोड़ पर मुलाकात होगी, फिर बची हुई बात चीत होगी,
पर पहली मुलाकात की कुछ और बात थी, अगली मुलाकात की कुछ और बात होगी,
पर उम्मीद कायम है, जिंदगी की राहों में उनसे एक न एक दिन मुलाकात होगी

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'