बसंत पंचमी और मन की टीस...

बसंत का आया मधुमास,
कण- कण में छाया मादक रस
पेड़ों पर छाइ हरियाली,
बौराई आमों की डाली,
फूलों से नव किसलय फूटी,
छाई मनमोहक छटा अनूठी
वाग्देवी की चहुं ओर पूजा होती,
बस एक बात हरदम कचोटती ,
रह- रह कर दिल में एक टीस उभरती,
नन्हे हाथों में जब कबाड़ की झोली दिखती
मन वेदना से भर जाता, बचपन के बसन्त की हरियाली जब कालिख में लिपटी ठूंठा होते दिखती
मुझको हर शज़र ठूंठा, हर बसंत हरियाली फीकी दिखती है
जब तक इस त्रासदी की आग नही बुझती है,
 विद्या देवी की पूजा मजाक सी लगती है, जब तक हर हाथों में कलम औ किताब नहीं दिखती है |
यह यायावर भी बसंत पंचमी धूम धाम से मनायेगा
श्वेत वसना को फूल माला चढ़ायेगा
जब हर दिल में दीप शिक्षा   का प्रज्वलित हो जायेगा

(यायावर प्रवीण )

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

युद्धरत और धार्मिक जकड़े समाज में महिला की स्थित समझने का क्रैश कोर्स है ‘पेशेंस ऑफ स्टोन’

गड़रिये का जीवन : सरदार पूर्ण सिंह

माचिस की तीलियां सिर्फ आग ही नहीं लगाती...

महत्वाकांक्षाओं की तड़प और उसकी काव्यात्मक यात्रा

महात्मा गांधी का नेहरू को 1945 में लिखा गया पत्र और उसका जवाब

तलवार का सिद्धांत (Doctrine of sword )

स्त्री का अपरिवर्तनशील चेहरा हुसैन की 'गज गामिनी'

गांधी और सत्याग्रह के प्रति जिज्ञासु बनाती है यह किताब

बलात्कार : एक सोच

समस्याओं के निदान का अड्डा, 'Advice Adda'